0

अब्दुल कलाम एक अभिमान


अब्दुल कलाम एक अभिमान
अब्दुल कलाम जी का भारत के निर्माण में बहुत बड़ा योगदान दिया है जिन्होंने अपने जीवन में युवाओं के लिए हमेशा प्रेरणा बने रहे वह अब्दुल कलाम जिन्होंने साइंस की दुनिया में भारत के लिए पृथ्वी अग्नि जैसे क्षेपणास्त्र बनाएं और जिन्होंने भारत का नाम रोशन किया एपीजे अब्दुल कलाम इन्होंने देश के प्रति महत्वपूर्ण काम करने के लिए भारत सरकार द्वारा उन्हें राष्ट्रपति का खिताब दिया गया वह भारत के 11वें राष्ट्रपति बने भारत में राष्ट्रपति के सर्वोच्च स्थान का पद है जोके ए पी जे अब्दुल कलाम को मिला उनका जीवन बहुत ही संघर्षों से भरा रहा वह एक बहुत ही गरीब परिवार से आते थे लेकिन उन्होंने इन सभी परिस्थितियों पर मात करके देश का सर्वोच्च स्थान हासिल किया और वही एपीजे अब्दुल कलाम इन्हें राष्ट्रपति पद से नवाजा गया हम सभी भारतीयों को इस महान व्यक्तित्व पर नाज है

एपीजे अब्दुलकलाम इनका जन्म 15 अक्टूबर 1931 में धनुषकोडी गांव के रामेश्वरम में हुआ था उनके माता पिता का नाम असीमा और जैनुल आबदीन था उनका पूरा नाम डॉक्टर और लोपा की जनरल आबदीन अब्दुल कलाम था अब्दुल कलाम एक इंजीनियर थे और वैज्ञानिक भी थे 2002 से लेकर 2007 तक वह भारत के 11वें राष्ट्रपति रहे .भारत में पहला उपग्रह प्रक्षेपण यान एसएलवी 3 का निर्माण किया 19 सौ 82 में रोहिणी उपग्रह अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया अग्नि एवं पृथ्वी जैसे प्रक्षेपास्त्रों को उन्होंने स्वदेशी तकनीक से बनाया एपीजे अब्दुल कलाम इन्होंने भारत के लिए बहुत सारा योगदान दिया उन्हें बच्चों से अधिक स्नेह था वह हमेशा अच्छी सीख देते थे लोगों ने मिसाइल नाम से भी पहचानने लगे उन्होंने बचपन में अखबार बांटकर अपनी शिक्षा पूरी की थी बचपन से ही बहुत मेहनती थे

अब्दुल कलाम  उनकी शिक्षा रामेश्वरम एलीमेंट्री स्कूल में हुई और सेंट जोसेफ कॉलेज में आगे की उसके बाद उन्होंने MIDC एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग डिप्लोमा किया उन्होंने  एपीजे अब्दुल कलाम देश के युवाओं के लिए एक प्रेरणा बन गई है भारत सरकार ने उन्हें पद्मभूषण  1981 में दिया 1990 में पद्म विभूषण 1997 में भारत रत्न और इंदिरा गांधी अवार्ड दिया 2011 में होने वाली मेंबरशिप इस अवार्ड से भी नवाजा गया 84 वर्ष की आयु में 27 जुलाई 2015 को शिलांग में एक कॉलेज में लेक्चर देते उन्हें अचानक गिर पड़े और उनका देहांत हो गया हमेशा युवाओं को प्रेरणा देता रहेगाए पी जे अब्दुल कलाम का जीवन यह वह भारत का पुत्र है जिसने कभी भी जात पात और ना आए नगर ईबी सिर्फ अपने आप पर आत्मविश्वास और कुछ करने की हिम्मत से एपी जे अब्दुल कलाम का इतना बड़ा व्यक्तित्व हो गया रोजमर्रा की जिंदगी और उनका साहसपूर्ण और संघर्ष में जीवन छोटी उम्र में ही काम करना इन सारी चीजों ने उन्हें कभी भी बना दिया था उन्होंने अनगिनत कविताएं भी लिखी उन कुछ कविताओं में से उन्होंने अग्निपंख अग्नि की उड़ान एक काव्यसंग्रह भी प्रदर्शित किया इनमे से कुछ गिने चुने कविताएं उसमें लिखी गई वैसे मां समंदर की लहरें बहुत ही सुंदर कविता है ज्यादातर कविताएं उन्होंने युवाओं के लिए लिखी गई आज की देश की युवा पीढ़ी उन्हें एक आदर्श मानती है और सभी लोग उनके चाहने वाले हैं वही ए पी जे अब्दुल कलाम एक नई भारत की तस्वीर है एपीजे अब्दुल कलाम को इंडिया मिरर की तरफ से सलाम

Author

Amol Kambale is founder "India-mirror" he has an interested in job news blog and entertainment topics and whatsoever his passion dedication

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *