0

ताज महाल प्यार का सुंदरता का प्रतीक

भारत भारत एक खूबसूरती का खजाना है जैसे कि भारत में अजीम ओ शान वास्तु है और वास्तव मे ताजमहल एक सुंदर प्रतिकृति है ताजमहल भारत में मुगलों द्वारा दी गई 1 भेट  है एक वह ताजमहल जो दुनिया के 7 अद्भुत नजारों में से एक है ताजमहल को दुनिया एक प्यार के रूप में जानती है अगर आप इंडिया आए और ताजमहल नहीं देखा तो क्या देखा

ताजमहल एक संगम लोरी पत्थर की बनाई हुई बहोत खूबसूरत वास्तु है यह वास्तु कई सालों से अपनी उसी रुपए और खूबसूरती के साथ खड़ी है इस वास्तु को लगाने में हजारों कारागिर योग की मेहनत बहुत सारा पैसा ना जाने एक सदी भी इसमें शामिल है इस खूबसूरत वास्तव में ना जाने कितनों का खून पसीना और यादें समाई गई है तो आइए जानते हैं ताजमहल के बारे में ताजमहल एक प्यार का प्रतीक

ताजमहल शाहजहां और मुमताज की याद का प्रतीक हजारों लोग ताजमहल को देखने आते हैं अपने प्यार के बारे में यहां कुछ फोटो खिंचवा कर अपने साथ लेकर जाते हैं ताजमहल अपने आप में एक बेहतरीन वास्तु है ताजमहल के बाजू की जो नदी बहती है उससे उसका खूबसूरती और भी निखर आती है ताज महल के अंदर जाते वक्त एक छोटा सा दरवाजा आता है उस दरवाजे की भी एक खास बात है जैसे ही हम उस दरवाजे के पास खड़े रहते हैं तो हमें ताजमहल नजदीक दिखाई देता है और जैसे ही हम अंदर जाने लगते तो ताजमहल हमें दूर दिखाई देता है यह उस वक्त की तकनीक आज भी सोचने का विषय है

ताजमहाल मुमताज के याद मे बनाया गया एक बहतरीन कारागिरी है ताज महाल प्यार का प्रतीक है दुनिया कोणे कोणे से लोग ताज महाल को देखणे आते है ये प्यार कि बहतरीन निशाणी है मुमताज एक पर्शियन थी.उनकी मौत १४ वि लडकी को जन्म देते हुवे हुवी .ताज महाल का निर्माण मुगल सम्राट शाहजहान मुमताज कि मौत के बाद मुमताज कि याद मे बनाया १६३२ मे ताजमहाल का निर्माण सुरू हुवा १६५३ मे ताजमहाल का निर्माण खत्म हुवा .ताजमहाल के निर्माण मे २५ हजार से जादा कारागिरो ने काम किया था १९८३ मे ताजमहल विश्व दरोद्धार हुवा ताज महाल का निर्माण मुगल और पर्शीयन का घालमेल है ताजमहल का निर्माण व्हाईट स्टोन याने संगम रवीरी पत्थर से हुवा इस पत्थर से ताजमहल कि खुबसूरती निखरअति है शहाजहान उन लोगो के हाथकाट दिये  ताजमहल जो कारागिरोने बनवाया था  थेताजमहल मे मुमताज शहाजहान कि कब्र है इस तरःसे बनाया गया ताजमहाल जिसे देखणे लाखो लोग आते है. .ताज महल एक प्यार कि ऐसी निशाणी है जिसे प्यार करणे वालाहर कोई देखणा चाहता है ताजमहल यमुना या नदी पे स्तिथ आग्रा मे है.ये भारत कि बाहत्तरीनं वास्तु है
आप को ताजमहल देखना है तो आप दिल्ली में स्थित आगरा स्टेशन पर रेलवे टैक्सी या हवाई जहाज द्वारा आ सकते हैं यह एक पर्यटन स्थल है तो उसके हिसाब से यहां पर आपका रहने और खाने की अच्छी सुविधा भी है यहां पर बहुत सारे सैलानी आते हैं और वह यह ताजमहल का रूप देखकर खुश भी हो जाते हैं

Author

Amol Kambale is founder "India-mirror" he has an interested in job news blog and entertainment topics and whatsoever his passion dedication

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *