0

स्वामी विवेकानंदजी का प्रेरक जीवन/विचार/ इतिहास

स्वामी विवेकानंद स्वामी विवेकानंद का जीवन हर उस इंसान के लिए जरूरी है जो जीवन में कुछ पाना चाहता हो स्वामी विवेकानंद दुनिया के लिए एक मिसाल है उनका विदेश में उन्होंने किया हुआ स्पीच बहुत ही महत्वपूर्ण है भारत का एक तारा जो विश्व में अपने स्पीच से जाने जाना लगा दुनियाभर में स्वामी विवेकानंद जी के बहुत सारे अनुयाई है स्वामी विवेकानंद युवाओं की प्रेरणा है स्वामी विवेकानंद जी का जीवन हर उस युवाओं के लिए जरूरी है जो जीवन में कुछ पाना चाहता हो भारत को स्वामी विवेकानंद जी के व्यक्ति त्व से भी जाना जाता है स्वामी विवेकानंद जी का जीवन उन्होंने लोगों की भलाई के लिए लगाया उन्होंने आध्यात्मिक ग्रुप सेवर धर्म के रहे स्वामी विवेकानंद जी 18 सौ सदी के भारत में एक बहुत ही प्रचलित व्यक्ति थे

स्वामी विवेकानंद यांचा जन्म कोलकाता शहर में 12 जनवरी 1863 में हुआ था उनका नाम नरेंद्र था.नरेंद्र जन्म से ही बहुत होशियार लड़का था स्वामी नरेंद्र उनके पिताजी विश्वनाथ दत्त बंगाल के हाईकोर्ट में अधिवक्ता थे और माताजी नाम भुनेश्वरी था वह 9 भाई बहन थे नरेन्द्र खेल कूदते और उनके बचपन के बाद से पढ़ाई में चालाक था, वह भी धार्मिक था, उनके धर्म के लिए बहुत प्यार था लेकिन वह सब कुछ बंद कर लेते थे, उन्होंने सच्चाई को सच मानना था। उनके जीवन में महत्वपूर्ण काल वह आया जब 1881 में उन्होंने रामकृष्ण परमहंस उनसे मुलाकात हुई स्वामी परमहंस को मिलने के बाद उनके मन में जो जो भी सवाल थे उनको उनके उत्तर उन्हें मिल गए और तब से उन्होंने स्वामी परमहंस को अपना गुरु मान लिया जात धर्म इनका स्वामी विवेकानंद विरोध किया उन्होंने रामकृष्ण मिशन को भारत भर में फैला है स्वामी विवेकानंद जी ने स्वामी विवेकानंद जी ने युवाओं के लिए बहुत सारे संदेश दिया उन्होंने अमेरिका में शिकागो में भाषण की शुरुआत मेरे अमेरिकी भाइयों और बहनों के से की स्वामी विवेकानंद जी ने अपने जीवन में अविवाहित रहे स्वामी विवेकानंद जी की मृत्यु 1902 में हुई स्वामी विवेकानंद जी के कुछ संदेश

उठो जागो और तब तक नहीं रुको जब तक आपका लक्ष्य ना प्राप्त हो जाए
अगर धन दूसरों की भलाई करने में मदद करें तो इसका कुछ मूल्य है अन्यथा यह एक बुराई का ढेर है और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाए उतना अच्छा है
हम जितना ज्यादा बाहर जाएं और दूसरों का भला करें हमारा ह्रदय उतना ही अच्छा होगा
हमे शारीरिक बौद्धिक आध्यात्मिक रूप से जो भी कमजोर बनाता है उसे त्याग दो
हमें अंदर से बाहर की तरफ विकसित होना है कोई तुम्हें पढ़ा नहीं सकता कोई तुम्हें आध्यात्मिक भी बना नहीं सकता तुम्हारी आत्मा के अलावा कोई गुरु नहीं है स्वामी विवेकानंद स्वामी विवेकानंद का जीवन हर उस इंसान के लिए जरूरी है जो जीवन में कुछ पाना चाहता हो उनके कार्य को सराहना करते हुए भारत सरकार द्वारा कन्याकुमारी में उनका बहुत ही बड़ा स्टैचू बनाया गया है जहां से लोग प्रेरणा ले सके स्टैचू स्वामी विवेकानंद जी के जीवन को दर्शाता है इस तरह स्वामी विवेकानंद का जीवन को india mirror का सलाम  जय हिंद

Author

Amol Kambale is founder "India-mirror" he has an interested in job news blog and entertainment topics and whatsoever his passion dedication

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *